योगी चालीसा 

योगी चालीसा दोहा योगी अपने कर्म से,सदा करो प्रकाश। जन जन में अब न्याय की,जगी है अनुपम आस।। चौपाई जय जय योगी धर्म प्रकाशा, यूपी में आप जगाये आशा। कीचड़ में तुम कमल खिलाये, जन जन के मन को हरसाये।। बूचड़खाना बंद कर दीन्हा, प्रथम पुनीत कर्म यह कीन्हा। गौ माता के प्राण बचाये, जब [...]